Will discuss Sasikalas inclusion in AIADMK again Panneerselvam


मदुरै/चेन्नई. अन्नाद्रमुक (Aiadmk) के वरिष्ठ नेता ओ. पनीरसेल्वम (O Panneerselvam) ने सोमवार को कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत जे जयललिता (J Jayalalithaa) की विश्वासपात्र रहीं वी के शशिकला (VK Sasikala) को दोबारा शामिल करने पर पार्टी का नेतृत्व चर्चा कर फैसला लेगा. शशिकला खुद को अन्नाद्रमुक का महासचिव घोषित कर चुकी हैं और पार्टी पर नियंत्रण दोबारा पाने का प्रयास कर रही हैं. इस बीच, पनीरसेल्वम का बयान इसलिए भी अहम है क्योंकि पार्टी के उनके सहयोगी के. पलानीस्वामी ने कुछ दिन पहले शशिकला की दल में पुनः वापसी की संभावना से बिलकुल इनकार कर दिया था.

पनीरसेल्वम से शशिकला के राजनीतिक कदमों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने मदुरै में संवाददाताओं से कहा कि राजनीति में कोई भी शामिल हो सकता है लेकिन उसे स्वीकार किया जाए या नहीं, यह जनता के हाथ में होता है. उन्होंने कहा कि संस्थापक एम जी रामचंद्रन के समय से ही अन्नाद्रमुक एक कैडर आधारित पार्टी है और अब इसे एक संगठनात्मक ढांचे के आधार पर चलाया जा रहा है जिसमें एक समन्वयक और सह समन्वयक है. पनीरसेल्वम पार्टी के समन्वयक भी हैं.

ये भी पढ़ेें :   दक्षिण-पश्चिमी मॉनसून हुआ विदा, 1975 के बाद सातवीं बार सबसे देरी से हुई रवानगी

ये भी पढ़ें :    चुनावों को ‘प्रभावित करने’ में फेसबुक की कथित भूमिका की जेपीसी जांच हो: कांग्रेस

शशिकला को अन्नाद्रमुक में फिर से शामिल करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस पर चर्चा की जाएगी. उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर अन्नाद्रमुक के उच्च नेताओं और पदाधिकारियों से बातचीत कर निर्णय लिया जाएगा. अन्नाद्रमुक के वरिष्ठ नेता डी जयकुमार ने चेन्नई में संवाददाताओं से कहा कि यह पनीरसेल्वम थे, जिन्होंने शशिकला और उनके गुट के खिलाफ 2017 में ‘धर्म युद्ध’ की शुरुआत की थी.

उन्होंने कहा कि पनीरसेल्वम के नेतृत्व वाले गुट और पूर्व मुख्यमंत्री पलानीस्वामी के खेमे की एकता के लिए पनीरसेल्वम ने शशिकला से संबंध तोड़ने की शर्त रखी थी. अन्नाद्रमुक (एआईएडीएमके) से निष्कासित नेता वीके शशिकला द्वारा 16 अक्‍टूबर को चेन्नई के मरीना में तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के स्मारक की यात्रा से राजनीतिक हलकों में कई तरह के कयास लगने शुरू हो गए हैं. अपने वाहन पर एआईएडीएमके के झंडे के साथ शशिकला को स्मारक में प्रवेश करते देखा गया. इस दौरान उनके समर्थकों द्वारा ‘एआईएडीएमके महासचिव त्याग थाई चिन्नम्मा’ के नारे लगाए जा रहे थे. आंखों में आंसू लिए जयललिता की करीबी सहयोगी अपने समय की राजनीतिक उस्ताद को पुष्पांजलि अर्पित करती हुई नजर आईं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.