Sadhna started her career as a dancer she was shocked when her dance scene was not there throwback story pr


60 के दशक की मशहूर हीरोइन साधना (Sadhna) का नाम याद आते ही सिनेप्रेमियों के दिल में एक ऐसी एक्ट्रेस की तस्वीर सामने आ जाती है जो ना सिर्फ खूबसूरत थीं बल्कि उस दौर की फैशन आइकॉन भी थीं. खास तरह से माथे पर बालों के छोटे-छोटे कट से मशहूर हुआ साधना कट हेयर स्टाइल (Sadhna Cut Hair Style) आज भी लड़कियां पसंद करती हैं. कम लोगों को ही पता होगा कि 60 के दशक में साधना पहली ऐसी एक्ट्रेस थीं जिसने फिल्म डायरेक्शन और प्रोडक्शन में कदम रखा था. ‘गीता मेरा नाम’ फिल्म का डायरेक्शन साधना ने ही रखा था. साधना शोहरत की जिस बुलंदियों पर पहुंची थीं वहां तक के सफर के लिए बहुत मेहनत की थी. आईए बताते हैं एक्ट्रेस की लाइफ से जुड़े दिलचस्प किस्से.

हीरोइन ही बनना चाहती थीं साधना
साधना का पूरा नाम साधना शिवदासानी था. पाकिस्तान के कराची शहर में एक सिंधी फैमिली में पैदा हुईं थीं. साधना के पिता हरि शिवदासानी हिंदी फिल्म एक्टर थे. बंटवारे के वक्त साधना की फैमिली मुंबई में आकर बस गई. अपने माता-पिता की इकलौती औलाद साधना नाजो में पली पढ़ी और 8 साल की उम्र तक स्कूल का मुंह नहीं देखा था. हालांकि बाद में ग्रेजुएशन कर लिया था. पिता के नक्शेकदम पर चलते हुए साधना भी फिल्मों में हीरोइन बनने के ख्वाब कमसिन उम्र से ही देखने लगी थीं.

साधना की पहली फिल्म थी ‘श्री 420’
साधना ने 15 साल की उम्र में डांस सीखना शुरू किया और जबरदस्त पकड़ बना ली थी. साधना को पहली बार फिल्म ‘श्री 420’ में काम मिला. इस फिल्म के मशहूर गाने ‘रमईया वस्ता वईया’ में एकस्ट्रा डांसर के तौर पर परफॉर्म किया. फिल्म जब रिलीज हुई तो अपनी पहली फिल्म की खुशी साधना ने अपनों दोस्तों के साथ बांटने का फैसला किया और सिनेमाहाल पहुंच गईं. लेकिन फिल्म खत्म हो गई, गाना आया और चला गया लेकिन साधना सिल्वर स्क्रीन पर नजर नहीं आईं. दरअसल, एडिटिंग में उनके हिस्से का डांस काट दिया गया था. खुद को सहेलियों के बीच शर्मिंदगी महसूस होने पर आंखे भर आई.

‘लव इन शिमला’ के बाद साधना ने पीछे मुड़कर नहीं देखा
हालांकि साधना को उस समय ये नहीं पता था कि आगे उन्हें अपने सीन का इंतजार करने के लिए टकटकी लगाए स्क्रीन पर नहीं देखना पड़ेगा, बल्कि फिल्में उनके नाम पर चलेंगी. साधना ने बतौर हीरोइन फिल्म ‘लव इन शिमला’ में काम पहली बार काम किया, इस फिल्म में उनके हीरो जॉय मुखर्जी थे. इस फिल्म की जबरदस्त कामयाबी के बाद तो एक्ट्रेस को पीछे मुड़कर नहीं देखना पड़ा. रातों रात स्टार बनी साधना को साथ मिला हैंडसम एक्टर देवानंद का. इन दोनों की जोड़ी को दर्शकों ने बहुत पसंद किया. समय के साथ स्टार साधना का रुतबा और शोहरत बढ़ता गया.

ये भी पढ़िए-राजेश खन्ना और मुमताज की बॉन्डिंग देख डिंपल कपाड़िया भी सोच बैठी थीं ऐसा, पढ़िए पूरा किस्सा

साधना को कैरेक्टर रोल मंजूर नहीं था !
कहते हैं कि सबका एक दिन समान नहीं रहता. जैसे राजेश खन्ना का स्टारडम नहीं रहा वैसे ही साधना की खूबसूरती भी समय के साथ धुंधली होती गई. 70 के दशक में जब उनका ग्लैमर कम पड़ने लगा तो कैरेक्टर रोल ऑफर हुए लेकिन साधना इसके लिए तैयार नहीं थीं. उन्हें अपने फैंस के दिलों में बनी खूबसूरत हीरोइन की तस्वीर से समझौता करना मंजूर नहीं था,लिहाजा फिल्मों से दूर हो गईं.

Tags: Actress